Thursday, 22 March 2018

बुरा न मानो, यह ज़िन्दगी है


वक़्त जो थम गया, पल पल का बुरा मानूँ?
हमसफ़र ने जो साथ छोड़ दिया, क़दम क़दम का बुरा मानूँ?
घायल जो होगया जंग-ए-ज़िन्दगी में, घाव घाव का बुरा मानूँ?
जीवन के दोराहे पे खड़ा हूँ, दिशा दिशा का बुरा मानूँ?
जीने से जो दम घुट रहा है, सांस सांस का बुरा मानूँ?
भला चाहे जो यार, उसकी बात बात का बुरा मानूँ?
बता रूह--मजरूह, भला भला का बुरा मानूँ?


***